Masala Chai, by Divya Prakash Dubey

Book Review:

My Rating: 6/10

masala-chai-400x400-imadtzyp8t8kgus2हिंदी कहानियों के चेतन भगत हैं दिव्य दुबे जी। इनकी कहानियाँ ज़िन्दगी के कुछ भूले हुए पहलुओं के इर्द गिर्द घूमती हैं और आपको कुछ हद तक उस समय में वापिस भी ले जाती हैं। लेकिन इनमें इतना फम नहीं है कि आपको वहीं पर छोड़ आएं। दिव्य ने कोशिश तो बहुत की है जीवन पर ज्ञान बांटने की, लेकिन नाकाम से हो गए। व्याकरण (Grammar) का प्रयोग थोड़ा बेहतर किया जा सकता है।
लेकिन मैं सराहना करता हूँ दिव्य की कि उसने हिंदी साहित्य को आज की युवा पीढ़ी तक पहुंचाया है और लोगों को उसकी रचनाएँ पसन्द आ रही हैं।

goodreads_icon_1000x1000-bed183559c02a417861f930e33e157d1

 Click here to read my other book reviews.

 P.S.: The pictures have been borrowed from internet with thanks to the owner of this picture.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s